मंगलवार, सितंबर 09, 2014

आता  हूं मैं अपनी सुनाने...

आता  हूं मैं मंदिर में,
निर्मल मन से,  धूप  जलाने, 
ईश्वर मेरी  सुनें, न सुनें,
आता  हूं मैं अपनी सुनाने...

राम-नाम का एक शब्द,
महकाता है मेरी   रुह को,
शोर-गुल से दूर यहां,
आता हूं मैं  मन बहलाने...

कभी खोना, कभी पाना,
होता रहता है जीवन में,
आता हूं कभी नम आंखों से,     
 कभी खुशियों के पल बिताने...

अरज है बस एक मेरी,
बुलाते रहना इस दर पे,
आता रहूं,  पुष्प लेकर,
बस तुम्हारा आशीश पाने...

10 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन अभिवयक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. उसके दरवाजे तो हमेशा खुले रहता हैं ... सच्चे मन से आने की जरूरत है ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सत्य कहा आपने...

      धन्यवाद।

      हटाएं
  3. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के - चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आप का...

      हटाएं
  4. अपनी सुना और चलता बन।
    --
    हाँ ...यही तो हो रहा है अब।

    उत्तर देंहटाएं
  5. इंसान केवल अपना कष्ट को ही सुनाता है ,उनकी इशारा नहीं समझता !
    रब का इशारा

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !