सोमवार, सितंबर 08, 2014

ये भ्रम नहीं, सत्य है...

होती है मृत्‍यु  जब  किसी की,
हम सब उदास होते हैं,
अब न आयेगा वो कभी,
जी भरके  हम  रोते हैं,
ये रोना-धोना चार दिन का,
ये भ्रम नहीं, सत्य है...

मृत्‍यु   है सत्य, जीवन है नशवर,
बैठे हैं हम, ये सत्य भूलकर,
जो आया है, उसे जाना है,
ये तन,  खाक हो जाना है,
जाना है छोड़, यहीं सब,
ये भ्रम नहीं, सत्य है...

जियोगे फूल बन, नाम होगा,
कांटों सा जीवन, बदनाम होगा,
जलती है शमा, देती है प्रकाश,
न रखती है, लेने वाले से आस,
महामानव, न मरता है कभी,
ये भ्रम नहीं, सत्य है...









जिन्दा

10 टिप्‍पणियां:

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !