शनिवार, मार्च 16, 2013

मिलन न होगा...

कहा था तुमने कभी मुझसे,
सदा मुस्कुराना...
होंठों की इस मुस्कान को,
कभी न मिटाना...

उस वक्त मैंने भी आप से ये
वादा किया था...
तुम्हारे प्रेम  का तुम से,
सुंदर तोफा लिया था...
न जान सका तुम कहां गई,
नामुमकिन था तुम्हे भूल जाना...

फिर तुमसी जीवन में कोई और मिली,
चंद क्षणों के लिए प्रेम की कली खिली,
सोचा तुम फिर आ गयी,
पर वो तुम नहीं थी...
वो मिटाने आई थी मेरे अधरों की मुस्कान,
वो नागिन है, मैंने न पहचाना...
अब न प्रीय तुम हो,
न अब वो पहले सी  मुस्कान है,
तुम कहां हो, मैं कहां हूं,
हम दोनों ही अंजान  है...
मिलन न होगा चाहत है दिल में,
भाता है मन को, तुम पर कविता बनाना...

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया आदरणीय-

    सौतन से मिल लो जरा, जहर पिलाती आय |
    युगल अधर चिपके पड़े, देह अधर में जाय ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभप्रभात :)
    होंठों की इस मुस्कान को,
    कभी न मिटाना...
    शुभकामनायें !!

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !