शुक्रवार, अगस्त 18, 2017

....हमारी ओर से भी अब पासे श्री कृष्ण फैंकेंगे....

आज़ादी की 71वीं वर्षगाँठ पर
पूछता हूं मैं,
भ्रष्ट नेताओं से
बिके हुए अधिकारियों से,
  स्वतंत्रता दिवस पर
या गणतंत्रता दिवस पर
तुम तिरंगा क्यों लहराते हो?
...तुम  क्या जानो  तिरंगे का मोल...


एक वो थे,
जो आजादी के लिये मर-मिटे
एक ये हैं,
जो आजादी को मिटा रहे
नेताओं को  चंदा मिल रहा,
और अधिकारियों को कमिशन
फिर राष्ट्रीय दिवस क्यों मनाते हो?
...तुम क्या जानों इन पर्वों  का मोल....
कल हम अंग्रेजों के गुलाम थे,
और आज भ्रष्टाचार के
कल जयचंद के कारण गुलाम हुए,
आज भी कुछ लोग हैं उसी  परिवार के,
जो रक्षकों पर पत्थर बरसा रहे,
चो वंदे मातरम न गा रहे,
 होने वाला है कृष्ण का अवतार अब,
...तुम क्या जानो श्री-कृष्ण कौन है....
देख लिया कौरवों को
हस्तिनापुर देकर भी,
हमारे बापू भिष्म ने
झेली पीड़ा विभाजन की।
अब न तुम्हारे पास भिष्म है
न द्रौण, न करण,
तुम्हारे पास भले ही आज भी  शकुनी है,
....हमारी ओर से भी  अब पासे श्री कृष्ण फैंकेंगे....

2 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, 'महाकाल' की विलुप्तता के ७२ वर्ष - ब्लॉग बुलेटिन “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (20-08-2017) को "चौमासे का रूप" (चर्चा अंक 2702) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !