सोमवार, सितंबर 01, 2014

आम आदमी की आवाज...

कोई भी सरकार आये,
राजा चाहे कोई भी हो,
आम आदमी  की आवाज,
कोई  भी  नहीं सुनता...

आम आदमी भी,
जब पा जाता है कुर्सी,
आम आदमी की आवाज,
वो भी नहीं सुनता...

आते हैं जब राजा,
उमड़ आती है भीड़,
उनका कहा हर शब्द,
आम आदमी आनंद से है  सुनता...

आम आदमी की हर पीड़ा,
महसूस की कवियों  ने,
कवियों  की आवाज  तो,
आम आदमी भी नहीं सुनता...

6 टिप्‍पणियां:

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !