बुधवार, दिसंबर 23, 2015

मानव...

ईश्वर ने
हर प्राणी के लिये
बनाई है एक धरा
जहां सब स्वतंत्र विचरे।
इन सब में, 
सबसे श्रेष्ट   मानव है
जिसे बनाया है
इस धरा के लिये...
मानव तन में
वास है
अनश्वर  आत्मा का
नष्ट नहीं होती जो।
मानव कर सकता है कर्म
बुद्धि और   विवेक से
पा सकता है मोक्ष
इस लिये सबसे श्रेष्ट    है वो...
पांच तत्वों से
 हर मानव बना है
   अविभाज्य है
समान हैं सब।
वैदिक धर्म  है सब का एक
जीवन है सबका करम-क्षेत्र 
मानव जिये मानवता के लिये
मरे भी तो  मानवता  के लिये...

आज कर्म ही
धर्म है  उसका
वो कर्म करे
मानव  हित  के लिये
रक्षा करे हर जीव की
पर्यावरण का  संरक्षण करे।
न होने दे शोषण,
किसी भी मानव का...

रावण को मारा मानव के लिये
कंस संहारा मानव के लिये
दधिची  ने अपनी हड्डियों  का दान
दिया  था मानव के लिये।
नानक आये मानव के लिये
 दिया ज्ञान बुद्ध  ने मानव के लिये।
गोविंद ने अपने चार लाल
कुर्वान किये मानव के लिये।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !