मंगलवार, जुलाई 01, 2014

ये अंतिम मुलाकात है...



मेरे नैन नम थे,
तुम भी उदास थी,
जानते थे हम दोनों ही,
ये अंतिम मुलाकात है...

तुम ने राह अलग कर ली,
मेरा पथ अलग होना ही था,
वक्त को यही मंजूर था,
ये अंतिम मुलाकात है...

खामोश रहे चमन के गुल,
दिवारें सब देखती रही,
चले गयी आखिर तुम भी,
ये अंतिम मुलाकात है...



10 टिप्‍पणियां:

  1. Goodbyes are always painful, but if one has to go through it then one has to....

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी लिखी रचना बुधवार 02 जुलाई 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  5. जुदाई का गम सहना ही होता है ...
    भाव पूर्ण रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. भाव पूर्ण रचना ...सुंदर ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति....

    उत्तर देंहटाएं
  8. Aisi "antim"mulakaten bar-bar milaati hain, janmon tak !

    उत्तर देंहटाएं
  9. भावपूर्ण अभिव्यक्ति http://kaynatanusha.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !