बुधवार, अक्तूबर 22, 2014

दिवाली सभी मनाते हैं...


[आप सब को पावन दिवाली की शुभकामनाएं...]
दुख अनेक हों फिर भी देखो,
दिवाली सभी मनाते हैं...
प्रथम गणेश की वंदना करके,
मां लक्ष्मी  को बुलाते हैं...

सब शुभ हो, मंगलमयी हो,
घर घर में समृधि आये,
उमंग, उल्लास, उत्कर्ष हो,
सभी यही चाहते हैं...

घर बाहर हर तऱप,
करते हैं दीपों   से प्रकाश,
जिन घरों में आज भी अंधकार है,
हम उन्हे भूल जाते हैं...

केवल मिट्टी  के दीप जलाएं,
लड़ियों से न ढौंग रचाएं,
गरीब  की खुशहाली  हैं   इनमे,
वो निज हाथों से इन्हे बनाते हैं...

 इस दिवाली पर सुख समृधि,
जन जन को, घर घर में देना,
 पर पहले मां उनके पास  जाना,
जो सड़कों पर रैन बिताते हैं...

5 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर रचना । दीप पर्व की मंगल कामनाऐं ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप को भी दिवाली की *****************शूभकामनाएं*****************

      हटाएं
  2. हैप्पी दीपावली....शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपका पोस्ट सराहनीय है.....कृप्या यहाँ भी पधारें....


    --Good News For Hindi Reader--


    The best hindi blog


    Click Here To Open Now



    Welcome for all visitors

    उत्तर देंहटाएं
  4. कृप्या यहाँ भी पधारें....
    --The best hindi blog--

    विज्ञापन से पैसे कैसे कमाएँ


    Welcome for all visitors

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !