मंगलवार, अक्तूबर 09, 2012

प्रेम पावन


दुनिया में हर रिश्ते को, कोई न कोई नाम मिला,

राधा कृष्ण के रिश्ते को, नाम मिला न अन्जाम मिला।

श्याम की रानियां थी अनेक, न उन में से राधा थी एक।

पर समर्पण था इन सब से अधिक, फिर भी न बैकुन्ठ धाम मिला।





सब ने कहा, मथुरा न जाओ, राधा ने कहा कर्तव्य निभाओ,

राधा का समर्पण, श्याम का स्नेह, राधा को श्याम सा मान मिला।



न आकर्षण, न दिखावा, ये था केवल प्रेम पावन,

ये सुनायी देता था श्याम की मुरली में, इसे जगदीश के हृदय में स्थान मिला।



लक्ष्मी स्वरूपा थी रुख्मणी, पर जग ने राधे श्याम कहा,

प्रेम श्रेष्ठ है भक्ति से, उद्धव को ये ज्ञान मिला।

8 टिप्‍पणियां:

  1. बेहद उम्दा रचना संदीप जी बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रेम श्रेष्ठ है भक्ति से, उद्धव को ये ज्ञान मिला।

    वाह बहुत ही उम्दा रचना………अभी कुछ दिन पहले यही प्रश्न किया था मैने फ़ेसबुक पर
    कृष्ण प्रेमी और कृष्ण भक्त मे क्या कोई अन्तर होता है ?
    और सबने अपने अपने हिसाब से उत्तर दिये अगर देखना चाहें तो आप मेरे पेज पर देख सकते हैं।
    http://www.facebook.com/rosered8flower/posts/3593033476006?ref=notif&notif_t=like
    और अपने विचार व्यक्त कर सकते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वंदना जी, अर्ुन जी तथा ज़ील जी मेरी रचना पर टिप्पणी देने हेतू धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  4. गीत के भाव अच्छे है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. भाव प्रवण खूबसूरत रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. भाव प्रवण खूबसूरत रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. भाव प्रवण खूबसूरत रचना ...

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !