सोमवार, अप्रैल 28, 2014

वक्त देखो ये कैसा आया...



कुत्ते को बिस्तर से  गोदी में उठाया,
भोजन दिया, , फिर नहलाया,
फिर तैयारी के साथ, घुमने चले,
कुत्ते को भी गाड़ी में बिठाया।
फिर कुत्ते को एक केला दिया,
छिलका सड़क पर गिराया।
केले का छिलका देखकर,
भूखा बालक दौड़के आया,
भूख मिटाई खाकर छिलका,
वक्त देखो ये कैसा आया...
 

8 टिप्‍पणियां:

  1. वाह रे कुत्ता तूने क्या जीवन पाया !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (29-04-2014) को "संघर्ष अब भी जारी" (चर्चा मंच-1597) पर भी होगी!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. गहन अर्थ लिए सटीक व्यंग्य
    बहुत खूब ----

    आग्रह है----
    और एक दिन

    उत्तर देंहटाएं
  4. गरीब को इंसान कहाँ समझते हैं बहुत से लोग ...
    सामयिक चिंतनशील प्रस्तुति ..

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !