मंगलवार, अक्तूबर 29, 2013

जिसने इसे पत्थर बनाया...



सुबह चलते हुए पथ में,
पैर एक पत्थर से टकराया,
चोट लगी कुछ रक्त  बहा,
फिरक कदम आगे को बढ़ाया।
गलती  मेरी ही थी,
जिसे संभल कर न चलना आया।
दोषीतो  वो है,
जिसने इसे पत्थर बनाया।
खुद भी खाता है ये सब की ठोकर,
न खुद ये इस पथ पे आया।

9 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर रचना -
    आदरणीय भाई जी-
    बहुत बहुत शुभकामनायें-

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेचारा पत्थर ... किस्मत की बात है ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर ! फिरक को फिर एक कर लें ए टंकित होने से रह गया है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहद की खूबसूरती ,अभिनव रूपकत्व लिए हैं तमाम गज़लें।

    उत्तर देंहटाएं
  5. उम्दा भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@ग़ज़ल-जा रहा है जिधर बेखबर आदमी

    उत्तर देंहटाएं
  6. Nice blog keep posting and keep visiting on www.kahanikikitab.com

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !