मंगलवार, अक्तूबर 01, 2013

कौन मनुज होगा बापू सा...



सुख,  महल त्याग  दिये,
निर्धन भारतीय बनकर जिये,
चरखा कातकर वस्त्र बनाते,
कौन मनुज होगा बापू सा...

 साधू सा जीवन जीया,
सब कुछ देकर कुछ न लिया,
कोई और होता तो राज करता,
कौन मनुज होगा बापू सा...

जो कहा,  वो खुद भी किया,
न केवल उपदेश दिया,
मानव पीड़ा का बोझ उठाने वाला,
कौन मनुज होगा बापू सा...

जीती अहिंसा से लड़ाई,
न बहाया खून न की तबाही,
खुद भूखे रहकर तंत्र हिलाया,
कौन मनुज होगा बापू सा...

किये केवल उत्तम कर्म,
अमन,  अहिंसा को कहा धर्म,
सत्यवादी, प्रेम पुजारी,
कौन मनुज होगा बापू सा...

सर्वधर्म का पाठ पढ़ाया,
गीता का अर्थ समझाया।
हिंद की पीड़ा समझने वाला,
कौन मनुज होगा बापू सा...

न कर सके पूरा ख्वाब तुम्हारा,
न मार्गदर्शक है कोई हमारा,
कहां गये? कब आओगे?
कौन मनुज होगा बापू सा...



8 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - बुधवार - 2/10/2013 को
    जो जनता के लिए लिखेगा, वही इतिहास में बना रहेगा- हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः28 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर .... Darshan jangra


    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी लिखी रचना की ये चन्द पंक्तियाँ.........
    सुख, महल त्याग दिये,
    निर्धन भारतीय बनकर जिये,
    चरखा कातकर वस्त्र बनाते,
    कौन मनुज होगा बापू सा...

    बुधवार 02/10/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    को आलोकित करेगी.... आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है ..........धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. कोई नहीं बापू सा ......अभी तो सब भोगी है
    नवीनतम पोस्ट मिट्टी का खिलौना !
    नई पोस्ट साधू या शैतान

    उत्तर देंहटाएं
  5. सही है ...
    थैंक यू बापू !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. साधू सा जीवन जीया,
    सब कुछ देकर कुछ न लिया,
    कोई और होता तो राज करता,
    कौन मनुज होगा बापू सा...

    सच लिखा है .. त्याग ओर सादा जीवन अपने जीवन में उतार कर लाखों लोगों की प्रेरणा बने बापू का शत शत नमन है ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच आज बापू सा मनुज कोई नहीं ...
    सबकुछ देश के लिए अर्पण किया .तभी तो वे बापू कहलाये .....
    बापू को समर्पित बहुत सुन्दर रचना
    ..बापू को नमन

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !