रविवार, सितंबर 16, 2012

चड़ते सुरज को स्लाम।


कल तक जिसका शोषण किया, पहना रहे हैं उसे फूलों कि माला,

कल तक था वो सड़कछाप, आज है वो पैसे वाला।

जब तक जेब में पैसा है, तब तक बनेंगे सभी यार,

स्वार्थी भगवान ने, बनाया है सारा  संसार।

 

हरा भरा था जब मेरा बाग, पंछी  वहाँ गाते थे राग।

 अली फूलों पर  मंडराते थे, सभी प्राणी आनन्द पाते थे।

जब से बाग में पतझढ़ आयी, तब से सूना है गुलज़ार,

स्वार्थी भगवान ने, बनाया है सारा  संसार।

 

खूबसूरत  थी जब वो नार, मिला उसे सब का प्यार,

सभी उसके पास जाते थे, अपना मन बहलाते थे,

जब तन कि कांती उड़ गयी, न मिला उसे किसी का प्यार,

स्वार्थी भगवान ने, बनाया है सारा  संसार।

 

 चढ़ते सूरज को स्लाम, करता है जग तमाम।

डूबते सूरज कि ओर,  से ऐ जग मुंह  न मोड़,

अस्त  हुआ है जो सूरज आज, उदय होगा यही हर बार,

स्वार्थी भगवान ने, बनाया है सरा संसार।

 

 

2 टिप्‍पणियां:

  1. आप अच्छा लिखते हैं कुलदीप जी....
    सुन्दर भाव है...
    कुछ मात्र संबंधी गलतियाँ टाइपिंग में हुई हैं जो खटकती हैं...उन्हें सुधार लीजिए बस.
    :-)अन्यथा न ले...

    लेखनी चलती रहे अनवरत....
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेनामी5:11 pm

    Please let me know if you're looking for a writer for your site. You have some really good posts and I think I would be a good asset. If you ever want to take some of the load off, I'd really like
    to write some material for your blog in exchange for a
    link back to mine. Please shoot me an e-mail if
    interested. Thank you!
    Look at my web site ... as found here

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !