गुरुवार, फ़रवरी 04, 2016

अगर चलते रहे तो बहुत मिलेंगे

थका नहीं
न पथ भूला
ख्वाबों के टूटने का
गम भी नहीं।
साथ भी हैं
कई चलने वाले
जो छोड़ गये
उनसे गिला भी  नहीं।
ठहरा हूं जब से
हो गया अकेला
सब चलते रहे
कोई रुका भी नहीं
अगर चलते रहे
तो बहुत मिलेंगे
अगर ठहर गये
रहेगी  रुह भी नहीं।

3 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (05.02.2016) को "हम एक हैं, एक रहेंगे" (चर्चा अंक-2243)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह...
    तन्हाईयाँ है जो चाहती है कि ठहर जाएँ
    मगर जिंदगी तो किसी को हमसफ़र बनाने में
    और किसी का हमसफ़र हो जाने में है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह...
    तन्हाईयाँ है जो चाहती है कि ठहर जाएँ
    मगर जिंदगी तो किसी को हमसफ़र बनाने में
    और किसी का हमसफ़र हो जाने में है।

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !