बुधवार, जनवरी 13, 2016

कर रही है लोहड़ी   आवाहन सबसे।

आयी लोहड़ी ,
लेकर खुशिया।
बदली रुत
दूर हुई ठंड
आलस्य सुस्ती
दूर हुई अब।
लोहड़ी  जलाओ
जी भर के खाओ,
नशवर है जीवन
बस नाचो-गाओ...
लोहड़ी    केवल
पर्व नहीं है।
लोहड़ी   है
एक  संदेश,
नफरत भुलाओं,
न रखो क्लेश।
बच्चों की हुडदंग
बालाओं के गीत
जलता अलाव
है भाईचारे की जीत...
कर रही है लोहड़ी  
आवाहन सबसे।
न डाकू कहो
दुल्ला भट्टी को,
न होने देता था
अन्याय वो।
वो लूटता था
लुटेरों का खजाना,
चाहता था देश में
पुनः स्वराज लाना...

1 टिप्पणी:

  1. बहुत सुन्दर सामयिक रचना
    लोहड़ी की हार्दिक शुभकामना

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !