रविवार, अगस्त 26, 2012

phoot parhi hai geet bankar. फूट पड़ी है गीत बनकर।


कन्ठ में मेरे, स्वर है तेरे, गीत हैं प्रेम के अधरों पर,

नैनों में है जो  छवी तुम्हारी,  फूट पड़ी है गीत बनकर।

 

 तनसुन्दर मन सुन्दरतम,सुन्दर हो तुम जग में सबसे,

तन की पावनता, मन की सुन्दरता,  फूट पड़ी है गीत बनकर।

 

तुम रति हो या मैनका, या किसी  नव लोक से आयी हो,

तुम्हारे अधरों की मधुर मुस्कान, फूट पड़ी है गीत बनकर।

 

कालीदास के नैनों में भी, तुम सी सुन्दर कोई छवि होगी,

जो दिखती  होगी हर शै में, फूट पड़ी है गीत बनकर।

 

मधुर वानी, पुष्प सा  स्वभाव, नैनों से छलकता  प्रेम,

तुम्हारी आहट मेरी प्रतीक्षा, फूट पड़ी है गीत बनकर।

 

 

5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया

    अच्छा लगा आपका ब्लॉग।

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक निवेदन
    कृपया निम्नानुसार कमेंट बॉक्स मे से वर्ड वैरिफिकेशन को हटा लें।
    इससे आपके पाठकों को कमेन्ट देते समय असुविधा नहीं होगी।
    Login-Dashboard-settings-posts and comments-show word verification (NO)

    अधिक जानकारी के लिए कृपया निम्न वीडियो देखें-
    http://www.youtube.com/watch?v=VPb9XTuompc

    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  4. दिल को छू देने वाली कविता है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. you write so well.keep it up and yes Yashwant is right ...many readers do not comment on seeing word verification window poping up on their screen,Write in english too,post on indiblogger,it will attrat many readers with their wonderful comments.
    Your template is nice but do add some more gadgets and you can make your blog look more attractive .
    Good post .

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !