बुधवार, दिसंबर 26, 2012

नारी तुम और सशक्त बनो...



बन जाएंगे कड़े कानून, थम जाएगी देश में क्रांति,
कोई दरिंदा  दानव  आकर, फैला देगा फिर अशांति,
इस शोर गुल से कुछ न होगा, नारी तुम और सशक्त बनो।
सीता महिनों लंका में रही, न आ सका रावण उसके   पास,
झलकता था भय सीता   में उस को, नारी तुम और सशक्त बनो।
देख लक्ष्मी बाई की तलवार, मान गए थे फिरंगी हार,
कांप रहा था बृटिश   राज, नारी तुम और सशक्त बनो।
कल्पना चावला  से पूछो, क्या थी नारी,
किरण वेदी को देखो, क्या है नारी,
नारी का कल का इतिहास पढ़ो, नारी तुम और सशक्त बनो।
हीरण का शिकार करते हैं सभी, सिंह को कोई न हाथ लगाता,
विक्राल हाथी भी देखो, सिंह के न पास जाता।
जो आज हुआ है कल न होगा, नारी तुम और सशक्त बनो।

9 टिप्‍पणियां:

  1. शानदार लेखन,
    जारी रहिये,
    बधाई !!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 29/12/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. http://urvija.parikalpnaa.com/2012/12/blog-post_28.html

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहतरीन रचना....
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहतरीन रचना....
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  6. नारी सशक्त है पर ताकत में हार जाती है ... सुंदर संदेश देती रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. सशक्त भाव लिए रचना..... प्रभावित करते विचार

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !