मंगलवार, जुलाई 11, 2017

पर सब ईश्वर नहीं बनते।....

[दिनांक 28 जून 2017 को पूजनीय पिता श्री की समृति में जन सेवा के उदेश्य से एक पीने के पानी का नल स्थापित किया गया साथ ही पूजा उपरांत पिता जी की फोटो दिवार पर स्थापित की गयी]
 ओ पिता जी
अब तो तुम भी
ईश्वर बन गये हो,
तभी तो
ईश्वर की तसवीर के साथ
तुम्हारी तसवीर भी
हार पहनाकर
दिवार पर टांग दी गयी है....

ये तुम्हारी तसवीर भी
जैसे मानो कह रही हो हम से
मैं मरा नहीं,
अभी भी   जीवित  हूं,
घर की हर चीज में,
तुम्हारी यादों में भी।
मरते तो हर रोज कई हैं।
पर सब ईश्वर  नहीं बनते।....




10 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ संध्या
    सादर नमन

    उत्तर देंहटाएं
  2. सादर नमन है मेरा ...
    पिता कहीं नहीं जाते पुत्र के रूप में रहते हैं हमेशा ... हर शै में ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल गुरूवार (13-07-2017) को "पाप पुराने धोता चल" (चर्चा अंक-2665) (चर्चा अंक-2664) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  4. नमस्ते ,आपकी लिखी यह रचना "पाँच लिंकों का आनंद "http://halchalwith5links.blogspot.in के 727 वें अंक (गुरूवार 13 -07 -2017 ) में प्रकाशन हेतु लिंक की गयी है । विमर्श में शामिल होने के लिए अवश्य आइयेगा,आप सादर आमंत्रित हैं। सधन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सादर नमन
    हृदयस्पर्शी पंक्तियाँ कुलदीप जी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. मरते तो रोज कई हैं
    पर सब ईश्वर नहीं बनते....
    जब पुत्र पिता की स्मृति में जनसेवा का कार्य करें...
    जनसेवा ही सच्ची प्रभु सेवा है...फिर ऐसे संस्कारों से अपने पुत्र को पोषित करने वाले पिता ईश्वर तुल्य ही हैं...नमन ऐसे महान पिता को...नमन उनके समाजसेवी पुत्र को.....

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपके पूज्य पिताजी को सादर श्रद्धांजलि !

    उत्तर देंहटाएं

  8. सादर नमन
    हृदयस्पर्शी रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपके पिताजी को श्रद्धानजली .

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !