बुधवार, सितंबर 11, 2013

कह रही है हमसे हिंदी...

क्यों कम हुआ है मेरा महत्व,
आज खतरे में है मेरा अस्तित्व,
मुझे कैसे तुमने कमजोर समझा,
कह  रही है हमसे हिंदी...

भूल गये तुम मेरी मम्ता,
न पहचान सके मेरी क्षमता,
सुना तुमने जो औरों ने कहा
कह  रही है हमसे हिंदी...

मैंने रचा तुम्हारा इतिहास,
वर्ना क्या था तुम्हारे पास,
मैं न होती तुम स्वतंत्र न होते,
कह  रही है हमसे हिंदी...

राज विदेशियों का भगाया,
बाकी सब कुछ उनका  अपनाया,
कैसे कहोगे तुम हिंदी हो,
कह  रही है हमसे हिंदी...

  असीम है  मेरा शब्द भंडार,
फिर भी  समझी गयी  लाचार,
मोह लिया तुम्हे अंग्रेज़ी ने,
कह  रही है हमसे हिंदी...

शालीनता और शुद्ध उच्चारण,
नहीं है ऐसा किसी का व्यकरण
देवनागरी  सी  न लिपी दूसरी,
कह  रही है हमसे हिंदी...

रोता है मेरा स्वाभिमान,
कहां गया मेरा संमान,
तुम आजाद हुए मैं गुलाम बनी,
कह  रही है हमसे हिंदी...
कहा किसने हिंदी दिवस मनाना,
न   मेरी रूह को तड़फाना,
एक दिन क्यों ढौंग रचाना,
कह  रही है हमसे हिंदी...

समझते हो तुम जिसे विज्ञान,
जन्मा है वो मुझसे ज्ञान,
है जनक सब के वेद पुर्ाण,
कह  रही है हमसे हिंदी...

ठुकराया है जिसने मां को,
सदा ही पछताया है वो,
जागो अभी भी समय है,
कह  रही है हमसे हिंदी...

8 टिप्‍पणियां:

  1. आज बुलेटिन टीम के सबसे युवा ब्लॉग रिपोर्टर हर्षवर्धन जी का जन्मदिवस है , उन्हें अपना स्नेह और आशीष दीजिये साथ ही साथ पढिए उनके द्वारा तैयार की गई आज की ब्लॉग बुलेटिन ........
    ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन जन्मदिन और ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. हिंदी आज सचमुच अपना स्थान ढूंढ रही है अपने देश में ... पता नहीं कब हम इस माँ को उसका उचित स्थान देते हैं ... भावपूर्ण रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. हिन्दी का अपना महत्व है उसे कम आंकने बाले ठीक नहीं करते |उम्दा कविता |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर जजबात..पता नहीं कब हिंदी को उसका उचित स्थान मिलेगा .

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर और सार्थक अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदरभाव और अभिव्यक्ति ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. हिंदी की पुकार व्यर्थ नहीं जाएगी

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !